Agriculture Success Story : लंदन की नौकरी छोड़ अपने वतन में खेती करता है ये किसान कपल

Agriculture Success Story Farmer Couple : देश के किसान कई प्राकर से उन्नत खेती (Advanced farming) के गुण सिखकर न सिर्फ अच्छी खेती कर रहे हैं बल्कि उस खेती से लाखों कमा भी रहे हैं ! लेकिन आज देश के कई किसान ऐसे हैं जो अभी तक उन्नत खेती (Advanced farming) के गुण समझ नहीं पाए हैं ! वो किसान आज भी पारंपरिक खेती (Traditional farming) कर अच्छे मुनाफा के इंतजार में बैठे हैं ! और जब ऐसा नहीं होता तो वो खेती को छोड़ कुछ और कमा में लग जाते हैं !

Agriculture Success Story Farmer Couple

"<yoastmark

वैसे तो हर कोई अच्छी पढ़ाई करने करने के बाद अच्छी नौकरी और जीवन बिताना पसंद करते हैं ! ऐसे ही एक गुजरात के रहने वाले कपल किसान की, जो विदेश से अपने देश लौटे और अब खेती कर अपना जीवन बिता रहे हैं ! साथ ही खेती से ही अच्छी कमाई भी कर रहे हैं ! गुजरात के पोरबंदर के बेरण गांव के रहने वाले राम दे खुटी भी लंदन में अपनी पत्नी भारती खुटी के साथ रहा करते थे ! इतना ही नहीं दोनों ही पति-पत्नी वहां अच्छी कंपनियों में नौकरी किया करते थे ! और लाखों रूपए में सैलरी लिया करती थी !

Agriculture Success Story of gujarats couple starts farming left landons life

इसके कुछ समय बाद एक दिन दोनों ने फैसला किया कि ये दोनों अब वापस अपने वतन लौटेंगे और अपने गांव में रहेंगे !  साथ ही खेती करेंगे ! वहीं दोनों का ये फैसला भले ही चौंकाने वाला रहा लेकिन सही साबित हुआ ! आज यह सफल किसान कपल (Successful farmer couple) अपने गांव लौट आया और साथ ही ये Successful farmer couple देशभर के सभी किसानों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बने हुए हैं ! वहीं आज कल युवा हैं जो चाहे गांव में रहे या शहर में पढ़ाई करने के बाद नौकरी के लिए बाहर का रुख कर लेते हैं !

2006 में इंग्लैंड गए

एक इंटरव्यू के दौरान सफल किसान कपल (Successful farmer couple) ने अपने इस सफर के बारे में बात करते हुए बताया कि साल 2006 में राम दे खुटी पहली बार इंग्लैंड गए थे ! इसके बाद वो वहां अच्छी खासी नौकरी करने लगे ! इसके बाद साल 2008 में राम ने भारत आकर भारती से शादी की, जो कि उस समय राजकोट में एयरपोर्ट प्रबंधन और एयर होस्टेस की पढ़ाई कर रही थी !

अब इसके बाद भराती ने अपनी पढ़ाई पूरी करने के साल 2010 में अपने पति राम के साथ लंदन चली गईं ! वहां उन्होंने इंटरनेशनल टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट (International Tourism and Hospitality Management) की डिग्री ली ! इस डिग्री के बाद उन्होंने ब्रिटिश एयरवेज के हीथ्रो एयरपोर्ट (British Airways Heathrow Airport) से हेल्थ एंड सेफ्टी कोर्स (Health and Safety Course) किया और फिर वहीं नौकरी करने लगी !

Agriculture Success Story : फिर लौट आए भारत

सोचने वाली बात तो यह है कि इतनी बेहतरीन जिंदगी जी रहा कपल इंग्लैंड से सब छोड़ छाड़ा कर सीधा भारत लौट आए और दोनों ने गांव का रूख क्यों किया ! दरअसल, सफल किसान कपल (Successful farmer couple) ने बताया कि इंग्लैंड में रहते हुए रामदे अपने माता-पिता की देखभाल को लेकर काफी चिंता में रहा करते थे ! वहीं उनकी खेती-बाड़ी भी मजूदरों द्वारा करवाई जा रही था ! जो ठीक से हुआ करती थी या नहीं इसका भी पता नहीं चल पाता था ! अपने माता-पिता की सेवा और खेती में कुछ नया करने के उद्देश्य से इन दोनों ने भारत आने का फैसला लिया!  इसमें उनकी पत्नी भारती ने भी उनका पूरा साथ दिया !

खेती में नया प्रयोग

इसक बाद एक काफी लंबा समय विदेश में रहने के बाद आखिरकार दोनों भारत लौट आए ! यहां उन्होंने खेती-बाड़ी (Farming) और पशुपालन (Animal husbandry) का काम शुरू किया ! वहीं परंपरागत खेती (Traditional farming) को छोड़कर उन्होंने आधुनिक तरीकों (Modern methods) से खेती करना शुरू किया ! फइलहाल तो शुरू शुरू में दोनों को यह काम करने में परेशानी का सामना करना पड़ा ! क्योंकि दोनों ने पहले यह काम कभी नहीं किया था। हालांकि कुछ बाद दोनों इस काम में ढलते चले गए !

Agriculture Success Story भारती दूध दुहाने से लेकर तमाम काम खुद करती हैं। अपनी ग्रामीण जिंदगी को लेकर सफल किसान कपल (Successful farmer couple) ने अपना एक युट्यूब चैनल भी बना लिया जिसका नाम लीव विलेज लाइफ विद ओम एंड फैमिली (Live village life with om and family) है, जिस पर कम से कम 6 लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर हैं, जहां वो अपनी दैनिक दिनचर्या की जानकारी देते हैं। खेती (Farming) और पशुपालन (Animal husbandry) को लेकर टिप्स भी देते हैं। साथ ही अपनी फैमेली के सदस्यों से मिलवाते भी हैं। बता दें कि राम और भारती का एक बेटा भी है।

Agriculture Success Story : नयी तकनिकी से किसान कमा रहे सालाना 10 लाख , जाने कैसे

  Success Story : कम पानी और कम लगत से ऐसे करें सतावर की खेती