Agriculture Success Story : बांका जिले की रहने वाली सविता देवी को सफल डेरी फार्मिंग से मिली पहचान

Agriculture Success Story Of Successful Farmer Savita Devi बांका जिले की रहने वाली सविता देवी को सफल डेरी फार्मिंग से मिली पहचान : पशुपालन के कारगर व्यवसाय है, जिसे बेहतर प्रबंधन के साथ कम समय में ही अच्छी सफलता हासिल की जा सकती है ! पशुपालन एक पुरुष प्रधान व्यवसाय ( Farmer ) ही माना गया लेकिन हम आज आपको सविता देवी ( Savita Devi ) के बारे में बताते है ! जो आज अपने दम पर न सिर्फ पशुपालन को शुरू किया बल्कि बेहतरीन प्रबंधन और सूझ बुझ से परिवार और व्यवसाय में सामंजस स्थापित कर सफलता पूर्वक डेरी उद्यम चला रही है ! लेकिन सविता को एक सफल डेरी ( Dairy ) उद्यमी के रूप में पहचान बनाने के पीछे इनके कड़ी संघर्ष और लगन की कहानी है !

Agriculture Success Story Of Successful Farmer Savita Devi बांका जिले की रहने वाली सविता देवी को सफल डेरी फार्मिंग से मिली पहचान

Agriculture Success Story Of Successful Farmer Savita Devi
Agriculture Success Story Of Successful Farmer Savita Devi

बांका जिले के सिजुआ गांव निवासी सविता ( Savita Devi ) की शादी एक गरीब परिवार में हुई थी ! परिवार की आमदनी ज्यादा नहीं थी, किसी तरह से गुजर बसर हो जाया करता था ! वो हमेशा यही सोचती रहती की परिवार की आय कैसे बढ़ाए एक दिन सविता ने अपने पति के सामने अपनी इच्छा को जाहिर किया ! उनके पति ने पशुपालन ( Farmer ) में साथ दिया और उनका हौसला बढ़ाया ! वे जी जान से आज भी अपने सपने को आकर देने में लगी रहती है !

Agriculture Success Story : ऐसे हुई पशुपालन की शुरुआत

सविता देवी ( Savita Devi ) ने पति को अपनी इच्छा जाहिर करने के बाद दोनों ने तय किया कि क्यों न एक गाय खरीद ली जाये ! जिससे की कुछ आमदनी भी हो जाये और घर में बच्चे भी दूध पिया करे ! वर्ष 2007 में सविता के पति ने एक गाय और एक बछिया खरीदी ( Farmer ) और धीरे-धीरे उनका ये व्यवसाय बढ़ने लगा, तभी से सविता लग गयी गौ पालन में ! कुछ महीने बाद इसके साथ ही सविता का मनोबल भी बढ़ता गया उनकी इच्छा अब विस्तार करने लगी ! उनके पास कुछ समय बाद तीन गाय हो गयी, फिर उनका मन एक अच्छा पशु ( Dairy ) फार्म खोलने का हुआ !

कृषि विज्ञान केंद्र से जानकारी Agriculture Success Story Of Successful Farmer Savita Devi

सुबह 4 बजे से ही उनकी दिनचर्या शुरू हो जाती है ! पशुशाला ( Farmer ) की सफाई से लेकर चारा काटना, दूध दुहना सारा काम अकेले ही करती है ! सविता ( Savita Devi ) को पता थे की सभी तकनिकी पहलुओं को समझे बिना ही व्यवसाय पशुपालन करे, तो यह जोखिम भरा हो सकता है ! अतः इस विषय में जानकारी के लिए वे जा पहुंची कृषि विज्ञान केंद्र बांका, वह जाकर सविता ने गाय पालन की तकनिकी जानकारी इकट्ठा की ! यहाँ के वैज्ञानिको ने उनके घर आकर घर आकर एक अच्छा फॉर्म विकसित करने में उनका सहयोग किया !

अन्य महिलाओ को मिली प्रेणा 

Agriculture Success Story आज सविता ( Savita Devi ) के पास 14 गाय और 6 बछिया है, जिनसे प्रतिदिन लगभग 150 लीटर दूध उत्पादन कर रही है ! वे अपने दम पर अपने इस व्यवसाय को सफलतापूर्वक चला रही है, जहाँ पशुपालन ( Farmer ) में हाथ आजमाने वाले कई लोग आगे चलकर हार मान जाते है ! आज सविता अकेले ही सफल नहीं हुई है, वे अपने साथ-साथ गांव की महिलाओ को भी सफल बना रही है ! इनकी ये कहानी अन्य महिलाओ के बीच चर्चा का विषय होती है, इनके अपनाये रस्ते पर चलकर दूसरी महिलाये भी उनके रस्ते पर चलने की कोशिश कर रही है !

यह भी पढ़ें:- Agriculture Success Story : 12 एकड़ में सफल बांस की खेती कर रहे मेनगांव के रहने वाले विजय पाटीदार  लगाए 4 हजार पौधे

Advertisement