Agriculture Success Story : इस किसान के खेत में मिलेगी हर राज्य की सब्जियां, सेना में रहते इकट्ठा किए थे बीज

Agriculture Success Story इस किसान के खेत में मिलेगी हर राज्य की सब्जियां, सेना में रहते इकट्ठा किए थे बीज : आज हम आपको जिस किसान के बारे में बताने जा रहे हैं वो एक समय पर फौज में रह कर देश की रक्षा किया करते थे और अब रिटायर होने के बाद खेती के कामों में खुद को व्यस्थ रखते हैं। बताया जाता है कि इस रिटायर फौजी किसान के खेत में आपको हर राज्य की सब्जियां मिल जाएगी। हिमाचल प्रदेश के रहने वाले रियाटर फौजी किसान करार सिंह ने फौज में रहते हुए देश के अलग-अलग हिस्सों में काम किया है।

Agriculture Success Story : इस किसान के खेत में मिलेगी हर राज्य की सब्जियां, सेना में रहते इकट्ठा किए थे बीज

इस किसान के खेत में मिलेगी हर राज्य की सब्जियां, सेना में रहते इकट्ठा किए थे बीज

इस किसान के खेत में मिलेगी हर राज्य की सब्जियां, सेना में रहते इकट्ठा किए थे बीज

काम के दौरान वो जहां भी जाते थे वहां से कुछ पौधे या बीज अपने साथ ले आते थे। फिर उन्हें ला कर अपने खेत में लगा देते थे। करतान सिंह के लिए कहना गलत नहीं होगा कि देश की रक्षा से लेकर अपनी मिट्टी से जुड़वा तक इनके जैसी मिसाल बेहद कम लोग ही बन पाते हैं। करतार सिंह को मिट्ट से जुड़े रहना पसंद है और हर दिन उनके मन में कुछ नया करने की चाह बनी रहती हैं। इसलिए वो अपना ज्यादा समय खेत में ही बिताते हैं। करतान सिंह ने अपने खेतों में 60 से ज्यादा फोलों के पौधे लगाए हुए हैं। साथ ही कई तरह की फसलों की खेती भी किया करते हैं।

फौज में रहते देश के जिस हिस्से में हुई पोस्टिंग वही से पौधा या बीज लेए करतार सिंह

Agriculture Success Story करतार सिंह ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि उनको बचपन से ही खेती और बागबानी का शौंक है, जो सेना में भर्ती होने के बाद भी बरकरार रहा। करतार सिंह कहते हैं कि सेना में होने के कारण मुझे देश के दूरगामी हिस्सों में जान का मौका मिला। इसलिए जब भी मेरी पोस्टिंग कहीं होती तो मैं वहां से कोई न कोई पौधा या किसी तरह का बीज अपने साथ लेया करता था और घर वापस लौट कर अपने खेत में उसको लगा दिया करता था। साथ ही अपने परिवार वालों को इस बात को कह रखा था कि उनके खेत में लगे पौधें का अच्छे से ध्यान रखा जाए।

अलग-अलग फसलों की खेती समते फलों के पेड़ों की करते हैं बागबानी

Farmer करतार सिंह को बागबानी और खेती करते हुए 30 साल ज्यादा का समय हो चुका है। वही अब उनके बाग में कम से कम 60 से ज्यादा पेड़ हैं, जो अलग-अलग तरह के फस देते हैं। इसको लेकर करतार सिंह बताते हैं कि इन अलग-अलग फलों वाले पेड़ों से हमें हर कुछ न कुछ अलग मिलता ही रहता है। साथ ही करतार सिंह कहते हैं कि मेरे घर मे सब्जियां, फल और फसलें हमेशा रहती हैं। हमे बाजार से सब्जिया या फल लाने की जरूरत नहीं पड़ती। इतना ही नहीं रिटायर फौजी किसान करतार सिंह ने प्राकृतिक खेती का प्रषिक्षण भी हासिल किया है। उन्होंने साल 2019 में राजस्थान के भरतपुर में प्राकृतिक खेती का प्रषिक्षण लिया है।

20 बीधा जीमन पर बिना किसी रसायन के प्राकृतिक खेती करे रहे हैं करतार सिंह

Farmer Success Story इसी दौरान करतार सिंह राजस्थान से अपने खेत में बौने के लिए काले रंग के गेंहू और बंसी गेहूं के बीज लाए और उसकी खेती शुरू की। करतार सिंह का कहना है कि काले रंग के गेहूं में कैंसर से लड़ने की ज्यादा क्षमता होती है। करतार सिंह 20 बीधा जीमन पर बिना किसी रसायन के प्राकृतिक खेती करे रहे हैं। उनकी विषेता है हर प्रकार की खेती करना। इसके अलावा अगर फसलों को किसी प्रकार की बीमारी हो जाती हैं तो वब प्राकृतिक दवाई से फसल का उपचार कर देते हैं। यह दवाइ वह खुद ही तैयार करते हैं।

यह भी जाने :- Agriculture Success Story : जलकोट के रहने वाले किसान ने आधुनिक हल्दी की खेती से कमाए लाखो रूपए

Agriculture Success Story : मशरूम और वर्मी कंपोस्ट के उत्पादन से ये किसान बने सफल किसान और मिसाल