आईपीएल में मौका नहीं मिलने पर मुंबई के क्रिकेटर ने फांसी लगाकर दी जान

आईपीएल में मौका नहीं मिलने पर मुंबई के क्रिकेटर ने फांसी लगाकर दी जान- मुंबई (Mumbai) के एक क्रिकेटर ने अपने आप को फांसी (Hanging) लगाकर आत्महत्या ली है। मुंबई के क्रिकेटर का नाम करण तिवारी (Karan Tiwari) है।10 अगस्त को वो अपने घर मे ही रात करीब 10 बजे फांसी के फंदे से लटका हुआ मिला। पुलिस ने पूछताछ होने के बाद बताया कि अभी हाल ही मे आईपीएल की लिस्ट जारी की गई जो सितम्बर (September) मे होना है उसमे उसका नाम नहीं होने के वजह से काफी समय से वो डिप्रेशन (depression) मे चला गया था। उसने इस बारे में अपने दोस्त को बताया था। 27 साल का करण तिवारी (Karan Tiwari) परिवार के साथ मलाड के गोकुलधाम (Gokuldham) में रहता था। 10 अगस्त को ही वो लिस्ट के बाद से डिप्रेशन मे जाने के बाद शाम से ही वह अपने कमरे में बंद हो गया था। रात में साढ़े 10 बजे के करीब जब करण के परिवार ने उसे आवाज लगाई तो अंदर से कोई जवाब नहीं मिला। इसके बाद परिवार वालो ने दरवाजा (door) तोड़ा गया तो वा छत पंखे से लटका मिला। मिड डे को कुरार थाने के इंस्पेक्टर बाबासाहेब सालुंखे ने बताया कि इस मामले में एक्सीडेंटल डेथ रिपोर्ट (Accidental Death Report) दर्ज की गई है।

क्रिकेटर करण तिवारी ने की आत्महत्या

आईपीएल में मौका नहीं मिलने पर मुंबई के क्रिकेटर ने फांसी लगाकर दी जान
आईपीएल में मौका नहीं मिलने पर मुंबई के क्रिकेटर ने फांसी लगाकर दी जान

सुसाइड से पहले दोस्त को फोन कर बताया

पुलिस के मुताबिक तयकीकत होने के बाद बताया की आत्महत्या (Suicide) करने से पहले उसने अपने मित्र जो की उदयपुर मे रह रहे है। उसने अपने दोस्त को सुसाइड करने का पूरा मामला (The whole case) बताया और कहा मे सुसाइड करने जा रहा हूँ उसके तुरंत बाद मित्र ने उसके बहन को कॉल किया जो घर पर नहीं थी उसकी बहन ने अपनी माँ को कॉल करके सब बताया मगर अफ़सोस जब तक उसके घर वाले कमरे मे पहुंचे बहुत देर हो चुकी थी उनसे पंखे से फांसी मे लटका हुआ मिला। अपने दोस्त को बताया की “वह एक राज्य टीम के लिए चुने जाने की उम्मीद कर रहा था। वह उनमें से कुछ के साथ बातचीत कर रहा था। वह एक बहुत ही होनहार क्रिकेटर था और उसने अपनी आखिरी व्हाट्सएप स्टेटस पर अपनी गेंदबाजी और बल्लेबाजी के वीडियो अपलोड किए थे। चौंकाने वाली बात ये है कि उसने ऐसा कठोर कदम उठाना चुना।”

आईपीएल के लिए स्टेट टीम में खेलना जरूरी

हालांकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (Board of Control for Cricket in India (BCCI) के नियमों के अनुसार, जो भी खिलाड़ी ने किसी भी आयुवर्ग में अपने राज्य की टीम में प्रतिनिधित्व (Representation) किया हो, वही आईपीएल के नीलामी में शामिल हो सकता है। करण तिवारी को ‘जूनियर डेल स्टेन’ के नाम से बुलाया जाता था। उनकी गेंदबाजी एक्शन और कद काठी दक्षिण अफ्रीकी दिग्गज तेज गेंदबाज डेल स्टेन (South African veteran fast bowler Dale Steyn) से बिलकुल मिलती-जुलती थी।

यह भी जाने –  IAS Success Story : हमेशा से IAS का सपना देखने वाली नंदनी ने ऐसे किया टॉप

Bag Business : बैग बनाने का बिजनेस भी है बहुत अच्छा ऑप्शन , जानें पूरी डिटेल