IAS Success Story : आँखों की रोशनी चली गयी लेकिन लक्ष्य नहीं भूले बने

आँखों की रोशनी चली गयी लेकिन लक्ष्य नहीं भूले बने IAS Officer सफलता की राह में के तरह की परेशानियां आती हैं |कई लोग इन परेशानियों के टेल हार मान लेते हैं और वही कुछ इसे लोग होते हैं जो इतिहास लिख देते हैं | यह इसे ही एक इंसान की कहानी हैं | जिसने अपनी कड़ी तपस्या एवं म्हणत से ,हर पल संघर्ष कर UPSC में एक बड़ी सफलता प्राप्त की | राकेश शर्मा की यह कहानी IAS Success Story इसे नोजवान जो आशाहीन हैं उनके लिए प्रेरनादायी हैं | राकेश शर्मा (IAS Rakesh Sharma) ने साल 2018 में सिविल सर्विस की एग्जाम पास की |लक्ष्य तक पहुचने के लिए हर इंसान को एक स्ट्रेटेजी के साथ काम करना होता हैं |

IAS Success Story : आँखों की रोशनी चली गयी लेकिन लक्ष्य नहीं भूले बने

IAS Success Story - आँखों की रोशनी चली गयी लेकिन लक्ष्य नहीं भूले बने Rakesha Sharma
IAS Success Story – आँखों की रोशनी चली गयी लेकिन लक्ष्य नहीं भूले बने Rakesha Sharma

अगर आप पुरी प्लानिंग के साथ काम करते हैं तो आप कोई भी परीक्षा पास कर सकते हैं | यही कर के दिखाया हैं, मूल रूप से गाँव सांवड के रहने वाले राकेश शर्मा ने |बचपन से ही आँखों की रोशनी खो चुके राकेश शर्मा ने सिविल सर्विस (Civil Service) की परीक्षा में 608 रेंक हासील की और Indian Administrative Service में सफलता प्राप्त की |

बचपन में ड्रग्स रिएक्शन की वजह से आँखों की रोशनी राकेश शर्मा खो चुके थे | आँखों की रोशनी ण होने से सारी पढाई उन्हें बेल लिपि में करना पडा | बचपन में रोशनी जाने के बाद समाज के लोगो ने उनके माता-पिता को उन्हें आश्रम छोड़ आने को कहा | लेकिन उनके माता-पिता ने समाज के तानो को दूर रख कर उन्हें एक सामान्य बालक की तरह पाला | फिलहाल वे लगभग 13 सालो से सेक्टर 23 में रहते हैं |

IAS Rakesh Sharma यह थी राकेश शर्मा की स्ट्रेटेजी

राकेश शर्मा ने सोशल वर्क में बैचलर डिग्री हासील की | इसके दोरान उन्हें लगा की वे सिविल सर्वेंट बन के काफी कुछ समाज के लिए कर सकते हैं | इसके बाद उन्होंने सोशल वर्क में ऍमए किया | इसके बाद 10 महीने कोचिंग की , और पहले ही प्रयास में परीक्षा को पास किया | राकेश शर्मा के कहे अनुसार बेसिक स्ट्रोंग होप्ना बहुत जरुरी हैं | उन्होंने कहा UPSC का कौर्स काफी डायनेमिक हैं | कभी उमीदों के बहार भी सवाल पूछ लिया जाता हैं |परीक्षा के लिए मोटीवेटेड  रहना बहुत ही जरुरी हैं |मोटीवेटेड रह कर आप कोई भी एग्जाम पास कर सकते हैं |

उन्होंने बताया की उनके माता-पिता हमेशा उनके साथ थे ! ताकि वे अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सके | राकेश शर्मा के अनुसार ‘लोगो को यह समझना होगा की इंटरव्यू में आपके इंटेलिजेंस को नहीं चेक किया जाता हैं’ |क्योंकी पहले ही आपके इंटेलिजेंस को प्री तथा मेंस एग्जाम में चेक कर चुके हैं | इंटरव्यू में अपने आप को डायवर्स  डायवर्स दिखाए और अपने इंटरेस्ट के बारे में बात करे | आपकी पर्सनालिटी को देखते हुए डायवर्सईटी चेक की जाती हैं |इसी तरह और भी IAS Motivational स्टोरीज के लिए हम,अरी वेबसाइट  SRBpost.com विजिट करे |

यह भी जानें :- Success Story : पहली ही कोशिश में सबसे कम उम्र में IAS ऑफिसर बनने की कहानी

IAS Success Story : बचपन में भैंस चराने वाली लड़की बनी आईएएस ऑफिसर