Chanakya Niti : कुशल लीडर बनने के लिए व्यक्ति में होने चाहिए ये 4 गुण

Chanakya Niti News कुशल लीडर बनने के लिए व्यक्ति में होने चाहिए ये 4 गुण यहाँ जानिये : आचार्य चाणक्य द्वारा रचित चाणक्य नीति ( Chanakya Niti ) को सफलता का दर्पण कहा जाता है ! आचार्य चाणक्‍य को बेहतरीन अर्थशास्‍त्री और कुशल राजनीतिज्ञ के तौर पर जाना जाता है !

Chanakya Niti News

Chanakya Niti कुशल लीडर बनने के लिए व्यक्ति में होने चाहिए ये 4 गुण यहाँ जानिये

Chanakya Niti कुशल लीडर बनने के लिए व्यक्ति में होने चाहिए ये 4 गुण यहाँ जानिये

चाणक्य नीति ( Chanakya Niti ) ने अपने नीतिशास्त्र में कई पहलुओं पर चर्चा की है ! जो लोगों के लिए काफी मददगार साबित होती है ! चाणक्य ने बताया है की एक लीडर में क्या गुड़ होना चाहिए आचार्य चाणक्‍य की नीति के अनुसार किसी भी कुशल लीडर बनने के लिए निरंतर सीखते रहना चाहिए ! फिर चाहे वो गलतियों से ही क्यों न हो ! चाणक्‍य कहते हैं कि गलतियों से इंसान बहुत कुछ सीखता है लेकिन कोशिश करें कि खुद की गलतियों के बजाए दूसरों की गलती से सीख लें ! यह आपको लक्ष्‍य की प्राप्ति की ओर अग्रसर करता है !

Chanakya Niti  बहुत ज्‍यादा ईमानदारी न दिखाएं

चाणक्य कहते हैं बेहतरीन लीडरशिप स्क्ल्सि के लिए ईमानदारी जरूरी है लेकिन बहुत ज्‍यादा नहीं ! चाणक्य का कहना है कि जो लोग जरूरत से ज्‍यादा ईमानदार बनने लगते हैं, कई बार उससे आस-पास के लोगों को परेशानी होने लगती है ! लीडर होने के नाते यह हमेशा देखें की आपकी वजह से दूसरों को कोई परेशानी का सामना न करना पड़े !

बुराई को हावी न होने दें

चाणक्य नीति ( Chanakya Niti ) कहते हैं कि अच्‍छाई की खुशबू दूर तक फैलती है ! इसलिए कभी भी परिस्थितियां कैसी भी हों खुद को न बदलें ! एक अच्छा लीडर बनने के लिए जरुरी नहीं है कि आपको बुराई का रास्ता ही चुनना पड़े ! चाणक्‍य कहते हैं कि मुश्किल से मुश्किल हालातों में भी बुराई को खुद पर हावी न होने दें ! यथा ऐसे लोग आपको सफलता मिलने में या फिर आपकी टीम को लीड करने में भी बाधक हो सकते हैं !

सीक्रेट्स को किसी से शेयर न करें

चाणक्य नीति ( Chanakya Niti ) के अनुसार एक कुशल लीडर को कभी भी अपने सीक्रेट्स किसी से शेयर नहीं करने चाहिए ! बात चाहे किसी कार्य-व्‍यवसाय को लीड करने की हो या फिर घर-परिवार की ! आप बेहतरी के लिए जो भी योजनाएं बनाएं उन्‍हें किसी से शेयर न करें ! इसके पीछे यह तर्क है कि हो सकता है कि जो तरीका आपको सही लगता है वह सामने वाले को सही न लगे ! ऐसे में आप तो कुछ अच्‍छा करने की कोशिश करेंगे ! लेकिन सामने वाले की नापसंदगी की चलते हो सकता है कि आपको अपना फैसला बदलना पड़े जिसका परिणाम आपकी उम्‍मीदों के मुताबिक नहीं हो !

अगर इस 1 चीज पर कर लिया कंट्रोल तो पूरी दुनिया रहेगी आपकी मुट्ठी में, जानिए चाणक्य नीति