आइंस्टीन का दिमाग क्यों संभाल कर रखा है | GK In Hindi General Knowledge

GK In Hindi General Knowledge आइंस्टीन का दिमाग क्यों संभाल कर रखा है | : अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) जब तक जिंदा थे तब तक सभी के लिए पहेली बने हुए थे कि उनको कितना कुछ कैसे पता है वो इस सब खोजों को कैसे कर लेते हैं ! वहीं उनकी मृत्यु के बाद उनके दिमाग को डॉक्टर्स ने इस लिए निकाल लिया था कियोंकि वो ये जानना चाहते थे कि आखिर एक अच्छे इंसान और ज्यादा समझदार इंसान का दिमाग कैसे काम करता है !

आइंस्टीन का दिमाग क्यों संभाल कर रखा है | GK In Hindi General Knowledge

General Knowledge क्यों संभाल कर रखा है आइंस्टीन का दिमाग
General Knowledge क्यों संभाल कर रखा है आइंस्टीन का दिमाग

वो कहां से इतनी ऊर्जा को वहन करता था और कैसे उससे अपने इन विचारों में पेश किया करता था ! शायद आपमें से काफ कम लोग ये जानते होंगे कि Albert Einstein के मृत्यु के बाद जब उनका दिमाग निकाला गया था, तब उसके 200 टुकड़े किये गए हैं और उनकी आंखें अभी तक संभाल कर रखी गयी हैं ! इसके अलावा आइंस्टीन की ये सभी चीजें पेरिस के मटर म्युसियम (Mütter Museum) में संभाल कर रखी गई हैं वा इसको देखा जा सकता है !

बचपन में असामान्य बच्चे ही थे Albert Einstein

Albert Einstein को लेकर बताया जाता है कि उनका सिर जन्म से ही सामान्य सिर के मुकाबले कुछ बड़ा था ! उस समय तक डॉक्टर्स और विज्ञान ने इतना विकास नहीं किया था कि इस बात का पता लगा सकें की आखिर ऐसा क्यों था ! वैसे बताया ये भी जाता है कि आइंस्टीन को इस वजह से कोई दिक्कत थी भी नहीं ! शायद ही कई लोग जानते होंगे की Albert Einstein को बचपन में असामान्य बच्चा माना जाता था !

नहीं करते थी टीचर्स पंसद : GK in Hindi

बताया जाता है कि आइंस्टीन एक बहुत ही शर्मीले बच्चे हुआ करते थे ! इतना ही नहीं उन्होंने चार साल की उम्र तक एक शब्द तक बोलना नहीं सिखा था ! आइंस्टीन ने नौ साल की उम्र में पहली बार बोलना शुरू किया ! इसके अलावा ये बात हर किसी को बताई जाती हैं कि Albert Einstein को बचपन से ही नालायक बच्चों में गिना जाता था ! खासकर आइंस्टीन के टीचर्स उन्हें बिल्कुल पसंद नहीं किया करते थे, क्योंकि वे गणित और विज्ञान जैसे विष्यों के अलावा हर विषय में फेल हो जाया करते थे !

चुना लिया था Albert Einstein का दिमाग 

साथ ही दुनिया के तमाम विद्यार्थियों की तरह आइंस्टीन पर भी टीचर्स की डांट का कोई असर नहीं होता था ! आइंस्टीन की मृत्यु के बाद पैथोलॉजिस्ट डॉ. थॉमस स्टोल्ट्ज हार्वे (Pathologist Dr. Thomas Stoltz Harvey) ने आइंस्टीन के परिवार की मर्जी के बिवा ही आइंस्टीन के खोपड़ी से दिमाग चुरा लिया था !

इसके बाद ये बात सबके सामने आ गई तो हॉस्पिटल वालों ने भी थॉमस से उनका दिमाग लौटने के लिए आग्रह किया, लेकिन थॉमस ने इससे साफ इंकार कर दिया और लगभग 20 सालों तक उन्होंने Albert Einstein के दिमाग को सबसे छुपा कर रखा ! बीस सालों बाद आइंस्टीन के बेटे के बेटे हंस ऐल्बर्ट आइनस्टाइन (Hans Albert Einstein) से अनुमति लेने के बाद दिमाग पर परीक्षण शुरू किया, लेकिन बताया जाता है कि थॉमस में इतनी क्षमता नहीं थी कि वो उनके दिमाग को अच्छे से पढ़ पाते !

200 टुकड़ों में कर दिया था विभाजित :  General Knowledge 

इसलिए उन्होंने Albert Einstein के दिमाग के 200 टुकड़े कर दिए और उनको अलग-अलग साथी डॉक्टरों को दे दिया ! अध्ययन के बाद जो नतीजे आए वो काफी चौंका देने वाले थे ! पैथोलॉजिस्ट डॉ. थॉमस (Pathologist Dr. Thomas) को इस पागलपन के लिए अस्पताल से भी निकाल दिया गया, लेकिन डॉक्टर थॉमस का प्रयास व्यर्थ नहीं गया ! उनकी इस गुस्ताखी का एक शानदार नतीजा सामने निकल कर आया और वो ये था कि आइंस्टीन के दिमाग में साधारण लोगों की तुलना में एक असाधारण कोशिका संरचना थी !

आज भी मुख्य संग्रहालय गैलरी में रखा हैं Einstein का दिमाग 

General Knowledge GK in Hindi बता दें कि ये आम इंसान के मुकाबले काफी बड़ी थी ! इसके साथ ही पेरिस के मटर म्युसियम (Mütter Museum) और फिलाडेल्फिया में संग्रहालय (Philadelphia Museum) दुनिया की एकमात्र ऐसे जगह है जहां आप Albert Einstein के मस्तिष्क के उन 200 टुकड़ों को देख सकते हैं ! मस्तिष्क अनुभाग, 20 (Brain section, 20) माइक्रोन मोटी और कैसाइल वायलेट (Micron Thick and Cassyl Violet) के साथ सना हुआ है और मुख्य संग्रहालय गैलरी में प्रदर्शन पर ग्लास स्लाइड में संरक्षित है !

यह भी पढ़ें- क्या घरों की छत पर लगे टावरों से कुछ नुकसान होता है | GK In Hindi General Knowledge
Advertisement