पुलिस की वर्दी का रंग खाकी क्यों होता है | GK in Hindi General Knowledge

Advertisement

नई दिल्ली: हर देश और राज्य में अलग-अलग कानून व्यवस्थाएं बनाई गई हैं ! उसी के हिसाब से हर कानून की वर्दी का रंग भी अलग होता है ! जैसे अमेरिका में पुलिस की वर्दी का रंग नीला होता है ! कोलकता जैसे राज्य में पुलिस की वर्दी का रंग सफेद होता है ! ऐसे ही जब आप दिल्ली या यूपी जैसे राज्य में देखते हैं तो यहां पुलिस की वर्दी का रंग खाकी है ! जब आप दूर से खाकी रंग को देखते हैं तो समझ जाते हैं कि सामने पुलिसकर्मी खड़ा है ! लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि आखिर यहां पुलिस की वर्दी का रंग खाकी ही क्यों होता है ? हर कोई एक पुलिसकर्मी को उसकी वर्दी से ही पहचानते हैं जो खाकी है ! तो चलिए आपको बताते हैं कि आखिर जिस पुलिस के होने से आप अपने घरों में सुरक्षित महसूस करते हैं ! जो सरहद पर अपने देश के लिए खड़े हैं, जिनकी वर्दी से चोर भाग खड़े होते हैं उनकी वर्दी का रंग आखिर खाकी क्यों होता है |

Advertisement

पुलिस की वर्दी का रंग खाकी क्यों होता है | General Knowledge in Hindi

पुलिस की वर्दी का रंग खाकी क्यों होता है ?
पुलिस की वर्दी का रंग खाकी क्यों होता है |

दरअसल, इसके पीछे भी एक लंबी और दिलचस्प कहानी है ! ये बात है आज़ादी से पहले की, जब हिंदुस्तान में ब्रिटिश शासन हुआ करता था ! तब यहां की पुलिस की वर्दी का रंग खाकी नहीं बल्कि सफेद हुआ करता था ! लेकिन ब्रिटिश शासन के उस दौर में सभी पुलिसकर्मियों को काफी देर तक ड्यूटी करनी पड़ती थी, जिसके दौरान उनकी वर्दी जल्दी गंदी हो जाया करती थी. इसी कारण से सभी कर्मी काफी परेशान रहा करते थे. इतना ही नहीं अपनी वर्दी पर लगी गंदी को छूपाने के लिए कर्मी अलग-अलग रंग का इस्तेमाल करने लगे. जिसके चलते हफ्ते में वो कई बार अलग-अलग की वर्दी पहने लगे. बस इसी से परेशान होकर अफसरों ने कर्मियों की वर्दियों के लिए खाक रंग की डाई का प्रयोग करवाया और सभी की वर्दियों को खाकी रंग में डाई कर दिया. जानकारी के लिए बता दें कि खाकी रंग हल्के पीले और भूरे रंगा का मिश्रण होता है.

वहीं जब कर्मियों की वर्दी को डाई करने का समय आया ! तब उन्होंने चाय का पानी और कॉटन फैब्रिक कलर को डाई की तरह इस्तेमाल किया ! जिसके बाद वर्दी का रंग खाकी हो गया. यानी की गंदी मिट्टी सा. इसके बाद पुलिसकर्मियों के वर्दी जल्दी गंदी नहीं होती थी. उस पर दाग और धूल कम नजर आती थी और कर्मी लंबे समय तक अपनी ड्यूटी कर सकते थे. इसके बाद साल 1847 में सर हैरी लम्सडेन अधिकारी तौर पर आए और उन्होंने पुलिस की वर्दी का रंग खाकी ही रख दिया. बस फिर क्या था उसी समय से पुलिस वालों की वर्दी का रंग खाकी हो गया.

Advertisement

सर हेनरी लॉरेंस कौन थें |

चलिए अब चलते-चलते आपको बताते हैं कि सर हेनरी लॉरेंस कौन थें ? सर हेनरी लॉरेंस नोर्थ वेस्ट फ्रंटियर के गवर्नर के एजेंट थे और लाहौर के रहने वाले थे. उन्होंने ही ‘कॉर्प्स ऑफ गाइड’ फोर्स दिसंबर साल 1846 में खड़ी की थी. ये फोर्स ब्रिटिश भारतीय सेना की एक रेजिमेंट थीं जो कि उत्तर-पश्चिम सीमा पर सेवा करने के लिए बनाई गई थी |

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here