Pradhan Mantri Awas Yojana (Rural) : पीएम आवास योजना का पोर्टल हुआ बंद, 14409 आवेदन बीच में अटके

Pradhan Mantri Awas Yojana (Rural) पीएम आवास योजना का पोर्टल हुआ बंद, 14409 आवेदन बीच में अटके : केंद्र सरकार (central government) ने देश के गरीबों के लिए कई योजना निकाले हैं। उन्हीं योजनाओं में से एक प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan Mantri Awas Yojana)। इस योजना के तहत गरीब लोग और कमजोर आय वर्ग के लोग को जिनके पास घर नहीं है उन्हें घर दिया जा रहा है। साथ ही PM Awas Yojana के तहत अपने खुद के घर का सपना देखने वालों को मदद दी जाती है। सरकार ने इस योजना के जरिए 31 मार्च साल 2022 तक 2 करोड़ घर बनाने का लक्ष्य रखा गया है।

Pradhan Mantri Awas Yojana (Rural) : पीएम आवास योजना का पोर्टल हुआ बंद, 14409 आवेदन बीच में अटके

Pradhan Mantri Awas Yojana (Rural)
PM Awas Yojana portal closed 14409 applications stuck in between

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2015 में PM Awas Yojana की शुरूआत की थी। वहीं हाल ही में खबर आ रही हैं कि प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) (Pradhan Mantri Awas Yojana Rural) का काम अब एडीसी कार्यालय (ADC Office) की जगह जिला परिषद (District Council) की देखरेख में होगा। दरअसल, बात यह है कि योजना (PM Awas Yojana) का ऑनलाइन पोर्टल पिछले कई महीने से बंद पड़ा हुआ है, जिसके चलत जो 14 हजार 409 आवेदन आए थे वो सभी अभी तक बीच में ही अधूरे पड़े हैं। साथ ही योजना के पोर्टल न चलने के कारण इन्हें ऑनलाइन नहीं किया जा सका है।

PM Awas Yojana portal closed 14409 applications stuck in between

जैसा की आप सभी जानते हैं कि साल 2016 से 17 में इस आवास योजना की शुरूआत हुई थी। वहीं पिछले दो सालों में अब तक 1460 लोगों को ही इस योजना का लाभ मिला पाया है। योजना (PM Awas Yojana) के तहत पहली और तीसरी किस्त तो सभी पात्र लोगों को मिली, लेकिन दूसरी किस्त 1460 में से 1427 लोगों को ही मिल पाई। वहीं 33 लोगों को आज भी इसका इंतजार कर रहे हैं। वहीं इस बारे में योजना से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि ये सभी दस्तावेज में कमी होने के कारण लाभ वे वंचित रहे हैं।

साल 2018-19 और 2019-20 के लिए नहीं कोई लक्ष्य

साथ ही बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) (Pradhan Mantri Awas Yojana Rural) को लेकर साल 2018-19 और 2019-20 के लिए अभी तक न तो कोई टारगेट आया है और न ही कोई बजट ही सामने आया है। हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि योजना के लिए कम से कम 14 हजार 409 लोगों ने आवेदन किया है। साथ ही इन आवेदनों की जांच को लेकर पटवारी, ग्राम सचिव, सरपंच और जेई को शामिल करते हुए एक टीम का गठन भी किया गया है, जो गांव-गांव जाकर सर्वे कर रही है कि अभी तक कितने गांव में सर्वे हुआ है, कितने पात्र और अपात्र हैं, इसे लेकर भी कोई जानकारी नहीं है।

इसके अलावा जिले में सात ब्लॉक हैं और 278 गांव हैं। किस गांव में कितने आवेदन आए, कितने पात्र हैं इसे लेकर भी अधिकारियों को किसी तरह की जानकारी नहीं है। वहीं इस बात को लेकर अधिकारियों का कहना है कि आवेदन तो मिल रहे हैं, लेकिन पोर्टल बंद होने के कारण ऑनलाइन नहीं किया जा रहा। सर्वे भी अभी तक किसी गांव में शुरू नहीं हुआ है। साथ ही टारगेट और बजट की स्थिति स्पष्ट होने के बाद ही आगे के काम को शुरू किया जाएगा।

गांव में दलाल सक्रिय

प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) (Pradhan Mantri Awas Yojana Rural) को लेकर जो पात्र लोग हैं उन्हें किस्त दिलवाने को लेकर दलाल काफी नजर आ रहे सक्रिय हैं। वहीं पांच से सात हजार रुपये हड़पकर जल्द ही कालोनी मिलने का प्रलोभन दे रहे हैं, जबकि अभी तक टारगेट तक विभाग के पास नहीं आया है। लोगों को ठग रहे दलालों को लेकर प्रशासन की ओर से कार्रवाई करने की जरूरत है।

पोर्टल बंद हैं : सीईओ

बता दें कि जैसा की आपको बताया है कि प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) (Pradhan Mantri Awas Yojana Rural) का पोर्टल बंद है जिसको लेकर जिला परिषद की सीईओ कमलप्रीत कौर ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना (PM Awas Yojana) का पोर्टल बंद है। इस कारण आए हुए आवेदनों को ऑनलाइन नहीं किया जा रहा है। साल 2018-19 और 2019-20 के लिए अभी तक कोई टारगेट और बजट भी नहीं आया है। आए हुए आवेदनों का अभी सर्वे भी नहीं हो रहा है। जैसे ही कोई आगामी आदेश मिलेंगे उस अनुसार काम होगा।

यह भी पढ़ें:- Skill India Mission : स्किल मिशन योजना के बारे में कुछ बातों को जानिए
Advertisement