MP By-elections 2020 : कांग्रेस ने बागी विधायकों को लेकर हाईकोर्ट में दायर की याचिका, बागी विधायकों पर कार्रवाई की मांग

Madhya Pradesh : मध्यप्रदेश में 28 सीटों को लेकर विधानसभा (MP By-elections 2020) चुनाव होने वाले हैं।उपचुनाव के तारीखों का ऐलान कर दिया गया है और 3 नवंबर को मतदान होने वाला है तथा 10 नवंबर को मतदान का परिणाम आने वाला है। इसी बीच आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी को छोड़कर जितने भी बागी विधायक भाजपा के साथ शामिल होकर भाजपा की सरकार बनाने में सहयोगी रहे हैं उन सभी बागी विधायकों को लेकर कांग्रेस पार्टी ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। कांग्रेस पार्टी ने अपनी याचिका में सभी बागी विधायकों पर पिटीशन दायर करके कार्रवाई की मांग की है। कांग्रेस पार्टी का कहना है कि बागी विधायकों से खर्च की राशि वसूली जानी चाहिए।

MP By-elections 2020 : कांग्रेस ने बागी विधायकों की हाईकोर्ट में दायर की याचिका, बागी विधायकों पर कार्रवाई की मांग

MP By-elections 2020 : कांग्रेस ने बागी विधायकों को लेकर हाईकोर्ट में दायर की याचिका, बागी विधायकों पर कार्रवाई की मांग

विधायक रहते हुए इस्तीफा दिया तो फिर क्यों लड़ रहे हैं चुनाव

कांग्रेस पार्टी ने हाईकोर्ट में दायर याचिका में कहा कि कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देने वाले विधायकों ने पार्टी को छोड़कर भाजपा में शामिल हुए और फिर अब दोबारा से विधायक बनने के लिए चुनाव की प्रक्रिया में शामिल हो रहे हैं। कांग्रेस पार्टी ने तर्क दिया कि जो विधायक चुनाव जीतकर विधायक पद पर काबिज हुए थे उन्होंने इस्तीफा देकर भाजपा का साथ चुनि और फिर विधायक पद पाने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। अगर उन सभी विधायकों को विधायक की ही चाहिए थी तो उन्होंने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा क्यों दिया? कांग्रेस पार्टी ने यह सवाल भी उठाया की25 विधायकों ने कांग्रेस पार्टी को छोड़कर भाजपा में शामिल होकर दुबारा से चुनाव लड़ने का फैसला फिर क्यों किया?

वसूली जानी चाहिए चुनाव का खर्च

कांग्रेस पार्टी ने हाईकोर्ट में दायर याचिका में यह कहा है कि विधानसभा क्षेत्र में चुनाव (MP By-elections 2020) लड़ने पर चुनाव आयोग का जो खर्च होता है वह सारा खर्च बागी विधायकों से वसूलना चाहिए। कांग्रेस पार्टी ने कहा कि बागी विधायकों के कारण ही दुबारा से विधानसभा चुनाव कराना पड़ रहा है और इस कारण से सारा खर्चा 25 बागी विधायकों से वसूल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि ना विधायक इस्तीफा देते और ना ही दोबारा चुनाव की प्रक्रिया को कराने की स्थिति उत्पन्न होती ऐसे में पूरा खर्चा बाजी विधायकों के कारण हो रहा है और उनसे ही यह राशि निकलवाने चाहिए। कांग्रेस पार्टी ने कहा कि जब उन्हें विधायक ही बनना था तो उन्होंने इस्तीफा क्यों दिया।

जानिए कौन-कौन है बागी विधायक

कांग्रेस पार्टी को छोड़कर जिन विधायकों ने भारतीय जनता पार्टी का साथ थामा, उन विधायकों के नाम निम्नलिखित हैं –

बिसाहूलाल सिंह, तुलसीराम सिलावट, ऐदल सिंह कंसाना, रघुराज सिंह कंसाना, रक्षा सरोनिया, कमलेश जाटव, मनोज चौधरी, ओ पी एस भदौरिया, जगपाल सिंह जज जी, सुरेश धाकड़, मुन्नालाल गोयल, गिरिराज दंडोतिया, महेंद्र सिंह सिसोदिया, जसवंत जाटावे, गोविंद सिंह राजपूत, रणवीर जाटव, बृजेंद्र सिंह यादव, हरदीप सिंह डंग, इमरती देवी, राजवर्धन सिंह, प्रद्युम्न सिंह तोमर, प्रभु राम चौधरी।

बता दें कि इन सभी बागी विधायकों ने कांग्रेस पार्टी का साथ छोड़कर ज्योतिरादित्य सिंधिया का समर्थन करते हुए कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद इन सभी विधायकों ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ मिलकर भाजपा में शामिल होकर मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार बनाने में अपना समर्थन प्रदान किया।

पूर्व मंत्री PC Sharma ने लगाया BJP पर किसानों की खरीद का आरोप, भाजपा की “ईस्ट इंडिया कंपनी” से की तुलना

Kamal Patel ने बोले Kamalnath के लिए विवादित बोल, कहा – सत्ता जाने के बाद सठिया गए हैं जीतू पटवारी और कमलनाथ

Minister Brijendra Yadav बांट रहे थे महिलाओं को साड़ी, वीडियो वायरल होने पर मंत्री जी ने दी सफाई

Madhya Pradesh Cabinet ने चुनाव से पहले की बैठक, अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी

Advertisement