शिवराज कैबिनेट में सिंधिया समर्थकों का दबदबा, कमलनाथ सरकार ने किया था अनदेखा

भोपाल | शिवराज कैबिनेट में सिंधिया समर्थकों का दबदबा :- गुरुवार को शिवराज (Shivraj Singh Chouhan) कैबिनेट के कुछ 28 नेताओं ने मंत्री पद की शपथ ले ली है। सभी मंत्रियों को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने शपथ दिलाई। वहीं शिवराज कैबिनेट में ज्योतिरादित्य सिंधिया के खेमे में 14 मंत्री गए। शपथ लेने वाले इन 28 मंत्रियों में 20 कैबिनेट मंत्री, जबकि 8 राज्य मंत्री शामिल हैं। साथ ही इनमें सिंधिया के समर्थक 12 मंत्रियों ने शपथ ली है, जिनमें 7 कैबिनेट और 5 राज्य मंत्री बनाए गए हैं। इसके अलावा सिंधिया के करीबी तुलसीराम सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत अप्रैल में ही कैबिनेट मंत्री बनाए जा चुके हैं।

शिवराज कैबिनेट में सिंधिया समर्थकों का दबदबा

शिवराज कैबिनेट में सिंधिया समर्थकों का दबदबा
शिवराज कैबिनेट में सिंधिया समर्थकों का दबदबा

वहीं याद आप सभी को याद हो तो कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिरने के बाद शिवराज सिंह चौहान ने 23 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। इससे पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इसी साल मार्च में कांग्रेस का हाथ छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया था। इस दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बताया था कि उनको कांग्रेस में वो स्थान नहीं दिया गया जिसके वो हमेशा से हकदार रहे हैं। बता दें की Madhya Pradesh में नई सरकार बनने के बाद मंत्रिमंडल की चर्चा थी |

जहां बीजेपी में ज्योतिरादित्य सिंधिया के पास 12 मंत्री हैं ! जिनमें महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रभुराम चौधरी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, बिसाहू लाल सिंह, एंदल सिंह कंसान, राज्यवर्धन सिंह और को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। इनके अलावा ओपीएस भदौरिया, गिरिराज दंडोतिया, सुरेश धाकड़ और बृजेंद्र सिंह यादव को राज्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई है। CM Shivraj Singh Chouhan उपस्थित थे |

कमलनाथ सरकार में ज्योतिरादित्य सिंधिया नहीं थे खुश

वहीं कमलनाथ सरकार में उनके हाथ में केवल 6 ही मंत्री थे ! जिससे ज्योतिरादित्य सिंधिया खुश नजर नहीं आ रहे थे ! जिनमें इमरती देवी, तुलसीराम सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, महेन्द्र सिंह सिसोदिया, प्रद्युम्न सिंह तोमर और डॉ. प्रभुराम चौधरी को कैबिनेट मंत्री बनाया था। बता दें कि इसी साल मार्च में ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ छह मंत्रियों समेत 22 कांग्रेसी विधायकों ने इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो गए थे। इसके बाद मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में बीजेपी की सरकार बनी है।

यह  भी जानें :- मध्यप्रदेश में हुई “एफआईआर-आपके द्वार” योजना शुरु