DAVV Indore Admission : मेरिट के आधार पर 20 विभागों के 110 कोर्स में होगा DAVV में एडमिशन

Advertisement

कोरोना महामारी के चलके इस साल छोत्रों की पढ़ाई पर काफी असर पड़ा है ! कहीं परिक्षाएं रद्द हुईं, तो कहीं रिजल्ट आने में देरी हुई और कई परिक्षाओं को स्थगित करना पड़ा ! इसी बीच इंदोर के देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की ओर से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। जहां, कोरोना के चलते विश्वविद्यालय ने DAVV Indore Admission से जुड़ी प्रक्रिया में बदलाव किया है। जी हां, बताया जा रहा है कि इस बदलाव के तहत मेरिट के आधार पर 20 विभागों के 110 कोर्स में एडमिशन दिया जाएगा। इस बात का फैसला तीन दिन पहले कुलपति डॉ. रेणु जैन द्वारा नॉन सीईटी को लेकर बुलाई गई बैठक में हुआ। इस बैठक में विभाग के सभी अध्यक्ष शामिल थे।

Advertisement

DAVV Indore Admission : मेरिट के आधार पर 20 विभागों के 110 कोर्स में होगा में एडमिशन

DAVV Indore Admission
DAVV Indore Admission

इसके साथ ही बैठक में स्कूल ऑफ फिजिकल एजुकेशन से संचालित बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स और मास्टर इन फिजिकल एजुकेशन में प्रवेश के लिए फिटनेस टेस्ट को अनिवार्य रखा गाया है। साथ ही फिजिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट से संचालित कोर्स में चयन के लिए फिटनेस टेस्ट की अवधि को भी बढ़ाया जा रहा है। इससे पहले सभी विद्यार्थियों को दो दिन में टेस्ट से गुजरना पड़ता था, लेकिन अब कोरोना संक्रमण के चलते सभी को शारीरिक दूरी का पालन करना होगा।

इस वायरस के चलते विगाभ सात दिन तक टेस्ट करवाने पर जोर दे रहा है ! ताकी सभी तरह के नियमों का पालन होता रहे। वहीं इस नियम के मुताबिक जिसमें 50-50 विद्यार्थियों का ग्रुप बनाया जाएगा | असके बाद उनकी शारीरिक क्षमता को परखा जाएगा। हालांकि अगस्त के दूसरे सप्ताह से प्रवेश शुरू हो सकते हैं। इसके साथ ही विश्वविद्यालय ने प्रक्रिया में मामूली बदलाव भी किया है।

Advertisement

वहीं इस पूरे मामले पर विभागाध्यक्ष डॉ. दीपक मेहता का कहना है कि पहले 300 चयनित विद्यार्थियों के लिए दो दिन का फिटनेस टेस्ट होता था | लेकिन इस बार 50-50 के ग्रुप में विद्यार्थियों को टेस्ट के लिए बुलाया जाएगा। विद्यार्थियों की संख्या को देखते हुए सात-आठ दिन टेस्ट की प्रक्रिया चलेगी। मामले में कुलपति ने भी सहमति दे दी है। उन्होंने आगे बताया कि उच्च शिक्षा विभाग की काउंसलिंग के जरिए एमपीएड कोर्स में विद्यार्थियों का चयन होता है। फिजिकल एजुकेशन विभाग को टेस्ट के लिए नोडल सेंटर बनाया जाता है। इस दौरान विद्यार्थियों की संख्या अधिक रहती है। उसके मुताबिक टेस्ट की अवधि निर्धारित की जाएगी।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here