EPF Calculation : रिटायरमेंट तक ऐसे तैयार करें 2.32 करोड़ रुपये का फंड, जानिए कैसे

EPF Calculation : कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ( Employees’ Provident Fund Organization ) करोड़ों खाताधारकों के खातों को मैनेज करता है ! इन खातों में कर्मचारी और नियोक्ता दोनों की बेसिक सैलरी (Basic Salary ) और महंगाई भत्ता (DA) 24 प्रतिशत (12+12) शेयर में जमा किया जाता है ! बता दें कि EPF खाते में जमा राशि पर सरकार हर साल ब्याज तय करती है ! फिलहाल इसपर मिलने वाला ब्याज 8.5 प्रतिशत है

EPF Calculation

EPF Calculation

EPF Calculation

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ( Employees’ Provident Fund Organization ) के मुताबिक, EPS के बकाए पर कैलकुलेशन महीने के आधार पर होगा ! 15 हजार रुपए की कैपिंग से ज्यादा बेसिक सैलरी जिस दिन से हुई है, उस दिन से बेसिक सैलरी पर एरियर की कैलकुलेशन की जाएगी ! बेसिक सैलरी के 8.33% का भुगतान नियोक्ता को करना होगा !

बेसिक सैलरी ज्यादा होने पर कैसे होगा कैलकुलेशन

अगर किसी कर्मचारी की बेसिक सैलरी 15 हजार रुपए से ज्यादा है तो नियोक्ता को 1 सितंबर 2014 से अतिरिक्त 1.16% कंट्रीब्यूशन देना होगा 8.33% और 1.16% कंट्रीब्यूशन को पेंशन फंड में मौजूद राशि के साथ एडजस्ट करना होगा !

EPS-95 क्या है

कर्मचारी पेंशन योजना 1995 यानी ( EPS-95 )  को 16 नवंबर 1995 को लागू किया गया था ! EPS अकाउंट में मैक्सिमम कॉन्ट्रीब्यूशन के लिए 1 सिंतबर 2014 से पहले 5000/6500 रुपये का कैप था ! इसके बाद कैप बढ़ाकर 15,000 रुपए कर दिया गया !

EPF Calculation : ब्याज पर मिलता है डबल फायदा

आमतौर पर खाताधारक यह मानते हैं कि प्रोविडेंट फंड में जमा होने वाले पूरे पैसे पर ब्याज मिलता है ! लेकिन, ऐसा नहीं होता ! कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ( Employees’ Provident Fund Organization )अकाउंट में जो राशि पेंशन फंड में जाती है, उस पर कोई ब्याज नहीं मिलता ! हर महीने की सैलरी स्लिप में देख सकते हैं कि आपकी बेसिक सैलरी और DA कितना है ! हर कर्मचारी की Basic Salary+ DA का 12 फीसदी EPF अकाउंट में जाता है ! कंपनी भी बेसिक सैलरी+DA का 12 फीसदी कंट्रीब्‍यूट करती है ! दोनों फंड को मिलाकर जो पैसा इकट्ठा होता है उस पर ब्याज मिलता है ! लेकिन, इसका फायदा ये है कि कंपाउंडिंग ब्याज (Compound Interest) होने से ब्याज भी डबल हो जाता है ! मतलब ब्याज पर ब्याज का फायदा मिलता है !

इस तरह से होती है EPF पर ब्याज की गणना

ब्याज की गणना कर्मचारी भविष्य निधि ( EPF ) करोड़पति कैलकुलेटर पीएफ खाते में हर महीने जमा किए गए पैसे यानी मंथली रनिंग बैलेंस के आधार पर की जाती है ! हालांकि इसे साल के अंत में जमा किया जाता है ! EPFO के नियम के मुताबिक अगर चालू वित्त वर्ष की आखिरी तारीख को बकाया रकम में से एक साल में कोई रकम निकाली जाती है तो उस पर 12 महीने का ब्याज काट लिया जाता है ! कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ( Employees’ Provident Fund Organization ) हमेशा अकाउंट के ओपनिंग और क्लोजिंग बैलेंस को लेता है !

DA Hike New Update : क्या 27 सितंबर को सरकार करेगी DA बढ़ाने का ऐलान, साथ मिलेगा 2 महीने का DA एरियर

LIC Jeevan Kiran Policy Update : LIC की इस पॉलिसी पर मिलेगा डबल फायदा, चेक करें डिटेल्स

PF Account Withdrawal : PF खाते से पैसा निकालना हुआ और भी आसान, इस इन स्टेप्स को करना होगा फॉलो