EPFO Pension Check : 7500 रुपए नहीं, 33 साल+2= 35/70×50,000= 25000 रुपए मिलेगी पेंशन

EPFO Pension Check : कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ( Employees’ Provident Fund Organization ) के सभी ईपीएफ ग्राहकों के लिए है ! इसमें संगठित क्षेत्र के तहत काम करने वाले लोगों को 58 साल की उम्र के बाद पेंशन ( Pension ) मिलती है ! कर्मचारी के पास कम से कम 10 वर्ष की सेवा होना अनिवार्य है ! कर्मचारी अपने वेतन का 12% ईपीएफ ( EPF ) में योगदान देता है और नियोक्ता भी उतना ही योगदान देता है ! ईपीएफओ ( EPFO ) लेकिन, नियोक्ता के अंशदान का एक हिस्सा ईपीएस में जमा होता है.

EPFO Pension Check

EPFO Pension Check

EPFO Pension Check

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ( Employees’ Provident Fund Organization ) के मौजूदा नियमों के मुताबिक, कर्मचारी हर महीने अपनी सैलरी (बेसिक सैलरी+डीए) का 12 फीसदी हिस्सा पेंशन ( Pension ) ईपीएफ खाते में जमा करता है ! वहीं, नियोक्ता भी आपके भविष्य निधि खाते में इतनी ही रकम डालता है ! हालांकि, नियोक्ता का योगदान ईपीएफ ( EPF ) में 3.67 फीसदी और ईपीएफओ ( EPFO ) में 8.33 फीसदी है ! लेकिन, प्रति माह 1,250 रुपये की सीमा है ! दरअसल, ईपीएस में 8.33% योगदान की गणना 15000 रुपये (बेसिक+डीए) पर की जाती है !

Employees’ Provident Fund Organization पेंशन पर 15 हजार रुपये की सीमा

ईपीएफओ ( EPFO ) मौजूदा व्यवस्था के मुताबिक, अगर कोई कर्मचारी 1 जनवरी 2022 से कहीं भी काम कर रहा है और वह 15 साल की सेवा पूरी करने के बाद पेंशन ( Pension ) लेना चाहता है तो उसकी पेंशन की गणना 15,000 रुपये ही की जाती थी ! भले ही कर्मचारी की बेसिक सैलरी 20 हजार रुपये या 30 हजार रुपये हो ! ईपीएफ ( EPF ) फॉर्मूले के मुताबिक कर्मचारी को 15 साल पूरे होने पर 2 जनवरी 2037 से करीब 3000 रुपये की पेंशन मिलेगी ! पेंशन की गणना का फार्मूला है- (सेवा इतिहास x 15,000/70) ! लेकिन, अगर पेंशन की सीमा खत्म हो जाएगी तो उसी कर्मचारी की पेंशन बढ़ जाएगी.

EPF उदाहरण क्रमांक 1

ईपीएफओ ( EPFO ) मान लीजिए किसी कर्मचारी की सैलरी (बेसिक सैलरी+डीए) 20 हजार रुपये है ! पेंशन फॉर्मूले से गणना करने पर उनकी पेंशन 4000 रुपये (20,000X14)/70 = 4000 रुपये होगी ! इसी तरह, जितनी अधिक सैलरी होगी, ईपीएफ ( EPF ) उसे पेंशन का लाभ उतना ही अधिक मिलेगा ! ऐसे लोगों की पेंशन ( Pension ) में 300 फीसदी का उछाल आ सकता है.

EPFO उदाहरण क्रमांक 2

मान लीजिए किसी कर्मचारी की 33 साल की नौकरी है ! उनकी आखिरी बेसिक सैलरी 50 हजार रुपये है ! मौजूदा व्यवस्था के तहत पेंशन ( Pension ) की गणना अधिकतम 15,000 रुपये वेतन पर ही की जाती थी ! इस तरह (फॉर्मूला: 33 साल + 2 = 35/70×15,000) पेंशन 7,500 रुपये ही होती ! ईपीएफओ ( EPFO ) मौजूदा व्यवस्था में यह अधिकतम पेंशन है ! लेकिन, अगर पेंशन की सीमा हटा दी जाए और आखिरी सैलरी के हिसाब से ईपीएफ ( EPF ) पेंशन जोड़ दी जाए तो उन्हें 25,000 हजार रुपये की पेंशन मिलेगी ! यानी (33 साल+2= 35/70×50,000= 25000 रुपये).

EPFO Pension Check : 333% ज्यादा मुनाफा मिलेगा

बता दें कि ईपीएफओ ( EPFO ) के नियमों के मुताबिक, अगर कोई कर्मचारी 20 साल या उससे अधिक समय तक नौकरी करते हुए लगातार ईपीएफ ( EPF ) में योगदान करता है, तो उसकी सेवा अवधि में दो साल और जोड़ दिए जाते हैं ! इस तरह उन्होंने 33 साल की सेवा पूरी कर ली, लेकिन पेंशन की गणना 35 साल के लिए की गई ! ऐसे में उस कर्मचारी की पेंशन ( Pension ) में 333 फीसदी तक का बड़ा उछाल आएगा.

EPFO सेवा इतिहास की गणना कैसे करता है

ईपीएफओ ( EPFO ) आपके ईपीएफ योजना में शामिल होने के दिन से वर्षों की गणना करता है ! हालाँकि, यह आवश्यक नहीं है कि सेवा इतिहास निरंतर हो ! मतलब अगर आप किसी कंपनी में काम करते हुए 2010 में ईपीएफ ( EPF ) योजना से जुड़े ! यहां 3 साल (2013) तक काम करने के बाद नौकरी बदल ली ! लेकिन दूसरी कंपनी में ईपीएफ का लाभ नहीं मिलता है, क्योंकि वह कंपनी कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ( Employees’ Provident Fund Organization ) के दायरे में नहीं आती है !

LIC’s Pension Scheme : LIC दे रहा पेंशन प्लान, रोजाना 72 रुपये निवेश कर पा सकते हैं 25,000 पेंशन

APY Pension Scheme : हर महीने 210 रुपये निवेश कर पाए 60,000 रु पेंशन, जानें योजना

Post Office में 2 लाख जमा करने पर मिलेगा 90,000 रुपये का ब्याज, जानें डिटेल