EPFO Pension Scheme : कर्मचारियो के लिए बड़ा अपडेट, क्या नौकरी छोड़ने पर पेंशन ख़त्म हो जाती है, जाने

EPFO Pension Scheme : EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) के मौजूदा नियमों के अनुसार, कर्मचारी हर महीने अपने वेतन (बेसिक सैलरी + डीए) का 12 फीसदी ईपीएफ खाते में योगदान करता है ! वहीं, नियोक्ता भी आपके भविष्य निधि खाते में इतनी ही रकम डालता है !

EPFO Pension Scheme

EPFO Pension Scheme

EPFO Pension Scheme

ज्यादातर नौकरीपेशा लोगों के पास प्रोविडेंट फंड (ईपीएफ) खाता होता है ! EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) के साथ-साथ कर्मचारियों के पास कर्मचारी पेंशन योजना-ईपीएस (कर्मचारी पेंशन योजना) खाता भी होता है ! इसे पेंशन फंड भी कहा जाता है ! हर महीने कर्मचारी के खाते में पेंशन की रकम जमा की जाती है !

यह राशि कर्मचारी के कंपनी खाते से जमा की जाती है ! लेकिन, अक्सर लोग इस बात को लेकर असमंजस में रहते हैं ! कि वे ईपीएस का पैसा कब निकाल सकते हैं ! कुछ शर्तों के साथ EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) से निकासी की अनुमति है ! आइये जानते हैं इससे जुड़ी हर बात

EPFO Pension Scheme

EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) के मौजूदा नियमों के मुताबिक, कर्मचारी हर महीने अपनी सैलरी (बेसिक सैलरी+डीए) का 12 फीसदी ईपीएफ खाते में जमा करता है ! वहीं, नियोक्ता भी आपके भविष्य निधि खाते में इतनी ही रकम डालता है ! हालांकि, नियोक्ता का योगदान ईपीएफ में 3.67 फीसदी और कर्मचारी पेंशन योजना में 8.33 फीसदी जमा होता है !

लेकिन, इसमें 1,250 रुपये प्रति माह की सीमा है ! दरअसल, EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) में 8.33% योगदान की गणना 15000 रुपये (बेसिक+डीए) पर की जाती है ! हालांकि, इस कैपिंग (सीमा) को हटाने की मांग काफी समय से चल रही है ! और सुप्रीम कोर्ट में इस पर सुनवाई चल रही है !

ईपीएस खाते से कौन निकाल सकता है पैसा

EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) के सेवानिवृत्त प्रवर्तन अधिकारी भानु प्रताप शर्मा के मुताबिक, ईपीएस खाते से केवल दो स्थितियों में एकमुश्त पैसा निकाला जा सकता है ! ईपीएस नियमों के मुताबिक, अगर नौकरी छोड़ने से पहले की सर्विस हिस्ट्री 10 साल से कम है ! या कर्मचारी 58 साल का हो गया है ! तो वह पेंशन फंड का पैसा एकमुश्त निकाल सकता है !

Employees’ Provident Fund Organisation

अगर आपकी उम्र 58 साल है तो भी एकमुश्त निकासी के बजाय EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) योजना प्रमाणपत्र का विकल्प है ! वहीं, योजना प्रमाण पत्र तब भी लिया जा सकता है ! जब कर्मचारी ने किसी अन्य संगठन में नौकरी ज्वाइन की हो या सेवा इतिहास 10 वर्ष से अधिक हो गया हो ! ऐसी स्थिति में योजना प्रमाण पत्र जारी किया जाता है !

ईपीएफओ सेवा इतिहास की गणना कैसे करता है

EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) आपके ईपीएफ योजना में शामिल होने के दिन से वर्षों की गणना करता है ! हालाँकि, यह आवश्यक नहीं है कि सेवा इतिहास निरंतर हो ! मतलब अगर आप किसी कंपनी में काम करते हुए 2010 में ईपीएफ योजना से जुड़े ! यहां 3 साल (2013) तक काम करने के बाद नौकरी बदल ली ! लेकिन दूसरी कंपनी में ईपीएफ का लाभ नहीं दिया जाता ! क्योंकि वह कंपनी ईपीएफ के दायरे में नहीं आती है !

कर्मचारी ने यहां 4 साल तक काम किया ! 2017 में आपने फिर नौकरी बदली और तीसरी कंपनी में चले गए ! जहां EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) योजना का लाभ मिलता है !

Employees’ Provident Fund Organisation

ऐसे में साल 2021 तक ईपीएस निकासी में आपके सेवा इतिहास की गणना पहली और तीसरी कंपनी में बिताए गए ! वर्षों के आधार पर होगी ! बीच में अन्य कंपनी का इतिहास नहीं गिना जाएगा ! यानी आपकी सर्विस हिस्ट्री कुल 7 साल मानी जाएगी ! ऐसे में आप एकमुश्त EPFO ( Employees’ Provident Fund Organisation ) पेंशन फंड से पैसा निकाल सकते हैं !

यह भी जाने :- 

LIC Jeevan Anand Policy : हर दिन सिर्फ 45 रुपये का करें निवेश, मिलेगा 25 लाख का तगड़ा फंड