EPS Pension Scheme : लाखों पेंशनर्स के लिए बड़ी खुशखबरी, पेंशन को लेकर, जानें कैसे

EPS Pension Scheme : कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ( Employees Provident Fund Organization ) की तरफ से चलाई जाने वाली पेंशन स्‍कीम है ! यह कर्मचारी पेंशन योजना ( Employee Pension Scheme ) संगठित क्षेत्र में काम कर चुके रिटायर्ड कर्मचारियों के लिए है, लेकिन इस योजना का लाभ तभी लिया जा सकता है, जब किसी कर्मचारी ने कम से कम 10 साल तक नौकरी की हो, हालांकि जरूरी नहीं कि ये नौकरी अपने लगातार ही की हो ! यहां बहुत से कम लोगों को यह पता होता है कि PF खाते में जमा रकम का एक हिस्सा पेंशन फंड ( Pension Fund ) के लिए ईपीएस खाते में जाता है.

EPS Pension Scheme

EPS Pension Scheme

EPS Pension Scheme

बता दें कि कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ( Employees Provident Fund Organization ) को वर्ष 1995 में लॉन्च किया गया था और इस योजना में मौजूदा और नए कर्मचारी पेंशन योजना ( Employee Pension Scheme ) सदस्य शामिल हो सकते थे ! हर महीने PF खाते में कर्मचारी की बेसिक सैलरी + डीए का 12 फीसदी जमा होता है ! एम्प्लॉयर/कंपनी का योगदान भी 12 फीसदी ही होता है ! कंपनी द्वारा किए जाने वाले योगदान में से 8.33 फीसदी राशि कर्मचारी के पेंशन फंड (EPS Fund) में जाती है और बाकी 3.67 फीसदी राशि ही पीएफ खाते में जाती है.

EPS Pension Scheme हर महीने पेंशन खाते में जाने वाली रकम

कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ( Employees Provident Fund Organization ) मौजूदा नियमों के अनुसार किसी भी कर्मचारी की सैलरी का 8.33 फीसदी उसके पेंशन खाते में जमा होता है ! हालांकि, पेंशन फंड ( Pension Fund ) योग्य सैलरी की अधिकतम सीमा 15 हजार रुपए है ! ऐसे में अगर किसी व्‍यक्ति की सैलरी 15000 रुपए है तो 15000 X 8.33 /100 = 1250 रुपए हर महीने उसके पेंशन खाते में जाएंगे. किसी भी कर्मचारी का कर्मचारी पेंशन योजना ( Employee Pension Scheme ) से बाहर निकलने से पहले पिछले 60 महीनों का पेंशन योग्य वेतन उसका औसत मासिक वेतन होता है !

जिस EPS Pension Scheme-95 की चर्चा है, वो असल में है क्या

जो कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ( Employees Provident Fund Organization ) के खाताधारक हैं ! रिटायरमेंट के बाद पेंशन का लाभ दिलाने के लिए 1995 में नया नियम लागू किया गया था ! इसे ही EPS-95 कहते हैं ! इसके तहत, पहले पेंशन फंड ( Pension Fund ) में अंशदान के लिए अधिकतम वेज 6,500 रुपये माना गया था ! यानी आपकी सैलरी कितनी भी हो, पेंशन फंड में 6,500 का 8.33 फीसदी ही जाएगा ! कर्मचारी पेंशन योजना ( Employee Pension Scheme ) बाद में इसे बढ़ाकर 15,000 रुपये कर दिया गया !

कौन और कैसे करता है पेंशन फंड में अंशदान

कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ( Employees Provident Fund Organization ) के हर मेंबर के 2 खाते होते हैं ! एक कर्मचारी भविष्‍य निधि (EPF) और दूसरा कर्मचारी पेंशन योजना ( Employee Pension Scheme ) कर्मचारी के बेसिक और डीए से हर महीने 12 फीसदी राशि काटकर EPF में डाली जाती है, जबकि उसका नियोक्‍ता भी कर्मचारी के बेसिक और डीए का 12 फीसदी डालता है ! लेकिन, नियोक्‍ता का पूरा अंशदान EPF में नहीं जाता ! नियोक्‍ता के अंशदान में से 8.33 फीसदी रकम EPS खाते में जाती है, जबकि 3.67 फीसदी रकम EPF खाते में डाली जाती है !

Employees Provident Fund Organization

करंजावाला एंड कंपनी की प्रिंसिपल एसोसिएट मनमीत कौर ने कहा कि समयसीमा बढ़ाना ईपीएफओ ( EPFO ) पर निर्भर करता है ! पात्र पेंशनधारियों, सदस्यों को होने वाली कठिनाइयों को ध्यान में रखते हुए और पेंशन फंड ( Pension Fund ) का कार्यान्वयन और प्रभाव बड़े पैमाने पर करने के लिए समय सीमा को आगे भी बढ़ाया जा सकता है ! इसके अलावा यह देखते हुए कि नियोक्ताओं को पात्र पेंशनभोगियों और सदस्यों की डिटेल्स को वेरीफाई करने के लिए 30 सितंबर तक का समय दिया गया है, इसलिए कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ( Employees Provident Fund Organization ) समयसीमा को उचित रूप से आगे बढ़ा सकता है.

Post Office में 5 लाख जमा पर गारंटीड मिलेंगे 7.25 लाख, देखें कितना बढ़ा फायदा

LIC Kanyadan Policy : बेटी को शादी के लिए मिलेंगे 27 लाख रुपये, जानें कैसे

DA Hike Arrear Update : सरकार ने बढ़ाया महंगाई भत्ता, G20 के बाद केंद्र बढ़ाएगा महंगाई भत्ता