Fixed Deposit Rules : मैच्योरिटी से पहले तोड़ी 1 लाख की FD तो बैंक इतना पैसा करेगा वापिस यहाँ जानें

Fixed Deposit Rules : यदि आप परिपक्वता से पहले फिक्स्ड डिपॉज़िट ( Fixed Deposit ) योजना तोड़ते हैं तो बैंक को आपको कितना भुगतान करना होगा और जुर्माना कितना होगा  नीचे सूचीबद्ध कुछ नियम हैं जो इस पर लागू होते हैं, और उन्हें समाचार में समझाया गया है !

Fixed Deposit Rules

Fixed Deposit Rules

New Fixed Deposit Rules

देश में हजारों लोग बैंक फिक्स्ड डिपॉज़िट ( Fixed Deposit ) में निवेश करना पसंद करते हैं क्योंकि ये सुरक्षित हैं और अच्छे रिटर्न का आश्वासन दिया जाता है ! बढ़ती ब्याज दरों के साथ-साथ सावधि जमा पर ब्याज दरों में भी वृद्धि हुई है ! एफडी ( FD ) की निश्चित अवधि की प्रकृति के कारण, कई उपभोक्ता पैसे की आवश्यकता होने पर अवधि के बीच में ही इसे तोड़ देते हैं ! ऐसी स्थिति में उन्हें कम ब्याज मिलता है और जुर्माना देना पड़ता है !

Fixed Deposit update

एफडी बनाते समय आपसे जो फिक्स्ड डिपॉज़िट ( Fixed Deposit ) का वादा किया गया था, उस पर ब्याज का भुगतान नहीं किया जाएगा यदि आप डिपॉजिट पूरा होने से पहले बंद कर देते हैं ! बैंक समय से पहले निकाली गई एफडी ( FD ) पर ब्याज काट लेते हैं और शेष ब्याज की राशि के लिए उन पर जुर्माना लगाते हैं ! ब्याज और जुर्माने के प्रावधानों के संदर्भ में, प्रत्येक बैंक के अपने नियम हो सकते हैं !

State Bank of India

देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई ( SBI ) के नियमों के मुताबिक, मैच्योरिटी से पहले तुड़वाई गई एफडी पर मिलने वाले ब्याज पर 1% तक का जुर्माना लगाया जाता है ! यदि आप 5 लाख रुपये तक की सावधि जमा ( FD ) को परिपक्वता से पहले तोड़ते हैं तो भारतीय स्टेट बैंक 0.50% का जुर्माना लगाता है ! यदि फिक्स्ड डिपॉज़िट ( Fixed Deposit ) 5 लाख रुपये से अधिक लेकिन 1 करोड़ रुपये से कम है तो 1% जुर्माना लगाया जाता है !

Fixed Deposit Big News

उदाहरण के लिए, आप एक साल की अवधि के लिए 1 लाख रुपये की एफडी ( FD ) पर 6 प्रतिशत ब्याज कमा सकते हैं ! यदि आप इसे 1 वर्ष से पहले बंद करते हैं तो आपकी फिक्स्ड डिपॉज़िट ( Fixed Deposit ) पर मिलने वाली ब्याज दर 5% होगी ! इसके अतिरिक्त, प्राप्त ब्याज का 0.50% जुर्माने के रूप में काटा जाएगा ! ब्याज दर सिर्फ 4.50 फीसदी होगी और आपको दोगुना नुकसान होगा.

Fixed Deposit Rules

आपातकालीन स्थिति में बैंकों में जमा किया गया पैसा अवश्य निकाल लेना चाहिए, क्योंकि पैसों की जरूरत कभी भी पड़ सकती है ! हालांकि, ग्राहक दो तरीकों का इस्तेमाल करके इस अवधि के दौरान ब्याज से जुड़े नुकसान से बच सकते हैं ! एक बड़ी सावधि जमा करने के बजाय कई छोटी-छोटी सावधि जमाएँ बनाएँ या छोटी परिपक्वता अवधि वाली फिक्स्ड डिपॉज़िट ( Fixed Deposit ) बनाएँ ! सावधि जमा पर ऋण लेना भी संभव है !

DA बढ़ाने के साथ DA Arrear भी देने जा रही सरकार, केंद्रीय कर्मचारियों की बल्ले बल्ले

Old Pension New Update : OPS अपनाने को लेकर RBI बुलेटिन ने किया आगाह, 4.5 गुना बढ़ जाएगा पेंशन खर्च

PM- KUSUM Scheme : तीन साल के लिए बढ़ा दी गई सरकार की ये योजना, फ्री बिजली और सब्सिडी का मिलता है लाभ