UP Free Boring Scheme : UP फ्री बोरिंग योजना जल्दी आवेदन करें, यहाँ देखे

UP Free Boring Scheme : उत्तर प्रदेश में प्रशासन किसानों ( Farmer ) पर विशेष जोर देता है ! केंद्र सरकार हर खेत में पानी पहुंचाने के लिए एक साथ कई योजनाएं बना रही है ! इसके विपरीत उत्तर प्रदेश में सरकार छोटे किसानों के खेतों की सिंचाई के लिए बोरिंग सुविधाओं ( UP Boring Scheme ) का वित्तपोषण कर रही है!

UP Free Boring Scheme

UP Free Boring Scheme

UP Free Boring Scheme

परिणामस्वरूप “यूपी फ्री बोरिंग स्कीम” योजना ( UP Free Boring Yojana ) सरकार द्वारा बनाई गई थी ! सामान्य और अनुसूचित जाति जनजाति के छोटे और मध्यम किसानों को इस योजना का लाभ दिया गया है ! यह रणनीति सिंचाई बोरिंग सुविधाओं के विकास की अनुमति देती है ! हालांकि, सरकार ने इसके लिए कुछ न्यूनतम सीमाएं तय की है !

“यूपी फ्री बोरिंग” योजना के लिए पात्र होने के लिए किसानों को पूरी प्रक्रिया से गुजरना होगा ! हम आपको इस योजना के लिए आवेदन करने की पूरी प्रक्रिया के बारे में बताएंगे ! इस योजना ( UP Schemes ) के लाभ, पात्रता (आवश्यक दस्तावेज), और आवेदन प्रक्रिया के बारे में विवरण नीचे दिया गया है !

योजना के लाभ : UP Free Boring Scheme Benefits

  • सामान्य वर्ग के किसानों को अधिकतम भुगतान तीन हजार रुपये प्रति बोरिंग होगा !
  • सामान्य वर्ग के सीमांत किसानों के लिए प्रति बोर अधिकतम राशि 4,000 रुपये है !
  • अनुसूचित जाति व जनजाति के किसानों ( Farmer ) के लिए प्रति बोरिंग 6,000 रुपये की सीमा !

योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आय प्रमाण पत्र !
  • उम्र का सबूत !
  • राशन पत्रिका !
  • पासपोर्ट के आकार की तस्वीर !
  • मोबाइल नंबर !
  • आधार कार्ड !
  • आवास प्रमाण पत्र !
  • बोरिंग योजना की नियम एवं शर्तें !

यूपी फ्री बोरिंग योजना के तहत अनुदान की अनुमति

  • बोरिंग/पम्पसेट और खेत के मध्य की दूरी नैशनल बैंक फ़ोर ऐग्रिकल्चर एंड रुरल डिवेलप्मेंट ( National Bank for Agriculture and Rural Development ) /नाबार्ड द्वारा जनपद विशेष के लिए तय की गयी दूरी से कम नहीं होनी चाहिए !
  • अतिदोहित/क्रिटिकल विकास खंडों में फ़्री बोरिंग़ योजना लागू नही होगी !
  • सेमी क्रिटिकल विकास खंडों में नाबार्ड द्वारा स्वीकृत सीमा के अंतर्गत ही लाभार्थियों का चयन किया जाएगा !
  • नहर प्रणालियों के अंतर्गत अंतिम छोर के उन क्षेत्रों में जहाँ नहर से पानी मिलने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता हो, के किसानों को चयन में प्राथमिकता दी जाएगी !

उत्तर प्रदेश फ़्री बोरिंग योजना अनुदान की राशि 

सामान्य जाति के लघु एवं सीमांत किसानों को अनुदान

  • योजना के तहत बोरिंग़ अनुदान की अधिकतम राशि रु 5000 एवं रु 7000 निर्धारित किया गया है !
  • सामान्य जाति के कृषकों के लिए न्यूनतम जोत सीमा  0.2 हेक्टेयर निर्धारित की गयी है !
  • सामान्य जाती के कृषकों ( Farmer Scheme ) को बोरिंग़ पर पम्पसेट स्थापित करवाना अनिवार्य नहीं है ! किंतु पम्पसेट ख़रीद कर स्थापित करवाने पर लघु किसानों को अधिकतम रु 4,500 और सीमांत किसानों को अधिकतम रु 6000 का अनुदान प्राप्त होगा !

अनुसूचित जाति /जनजाति कृषकों के लिए अनुदान

  • इस वर्ग के किसानों के लिए अनुदान की अधिकतम सीमा रु 10,000 निर्धारित की गयी है !
  • न्यूनतम जोत सीमा और बोरिंग़ पर पम्पसेट स्थापित करने की बाध्यता निर्धारित नहीं की गयी है !
  • पम्पसेट स्थापित करने पर अधिकतम रु 9,000 अनुदान प्राप्त हो सकेगा !
  • रु 10000 की सीमा के अंतर्गत बोरिंग़ करवाने के बाद अनुदान की राशि शेष बचने पर रिप्लेक्स वाल्व, डिलीवरी पाइप,बैंड आदि अतिरिक्त सामग्री ख़रीदने की सुविधा का लाभ प्राप्त हो सकेगा !
  • पम्पसेट स्थापित करने पर अधिकतम रु ९००० अनुदान राशि प्राप्त होगा

HDPP की ख़रीद पर अनुदान

90 मिमी आकार के न्यूनतम 30 मीटर और अधिकतम 60 मीटर तक के HDPP ( High Density Polythene Pipe ) पाइप के क्रय मूल्य का 50% या अधिकतम रु 30,000 जो भी कम हो अनुदान के रूप में प्राप्त होगा !

पम्पसेट के क्रय पर अनुदान

नाबार्ड द्वारा विभिन्न अश्वशक्ति के पंपसेटों के लिए ऋण की सीमा निर्धारित की गयी है ! जिसके आधार पर बैंको से ऋण की सुविधा प्राप्त की जा सकती है ! इसके अतिरिक्त योजना ( All UP Schemes ) के तहत ज़िलेवर रजिस्टर्ड पम्पसेट डीलरो से भी नक़द पम्पसेट खरिदने पर भी अनुदान का लाभ उठाया जा सकता है ! किसान इन दोनो विकल्पों में से किसी भी प्रक्रिया के माध्यम से आईएसआई/ISI मार्क पम्पसेट ख़रीद कर अनुदान का लाभ प्राप्त कर सकेंगे !

आवेदन करने की प्रक्रिया : UP Free Boring Scheme

  • आवेदन करने के लिए https://scheme.jjmup.org/mi/index.php . पर जाएं !
  • यहां योजना के विकल्प पर क्लिक करके आवेदन ( Apply For Free Boring Scheme ) पत्र के विकल्प का चयन करें !
  • आवेदन पत्र का प्रिंट आउट लें !
  • अब आवेदन में पूछी गई जानकारी भरें- आपका नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, पता और अन्य !
  • इसके साथ मांगे गए दस्तावेज संलग्न करें !
  • इसके बाद अपने जिले के लघु सिंचाई विभाग को जमा करें !