MANREGA Yojana : जाने मनरेगा योजना क्या है, साथ ही जानें मनरेगा के नियम

MANREGA Yojana : भारत सरकार ( Indian Government ) द्वारा देश के सभी राज्यों के लोगों को रोजगार उपलब्ध कराना एक बड़ी चुनौती बन गई थी ! इसी समस्या का समाधान निकालते हुए भारत सरकार ने मनरेगा योजना ( MANREGA Scheme ) शुरू की ! जिसमें ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले प्रत्येक परिवार के एक सदस्य को न्यूनतम 100 दिन का रोजगार देना होता है ! यह योजना उन गरीब परिवारों की आर्थिक स्थिति को सुधारने में मदद करेगी !

MANREGA Yojana

MANREGA Yojana

MANREGA Yojana

राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना ( National Rural Employment Guarantee Scheme ) 2 फरवरी 2006 को आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले से शुरू की गई थी ! और इसे पहली बार 200 चयनित जिलों में लागू किया गया था ! इसके बाद यह योजना ( MANREGA Yojana ) देश के सभी राज्यों में लागू की गई ! यह योजना जम्मू और कश्मीर को छोड़कर पूरे देश में लागू की गई थी !

मनरेगा योजना का नाम कब बदला गया?

जब इस योजना को शुरू किया गया था तब इस योजना का नाम NREGA रखा गया था लेकिन 2 अक्टूबर 2009 को इस योजना का नाम बदलकर महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना ( Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Scheme ) कर दिया गया ! इस योजना को 5 सितंबर 2005 को भारत के राष्ट्रपति द्वारा अनुमोदित किया गया था ! इस योजना के तहत रोजगार गारंटी प्रदान करना इस योजना को अन्य योजनाओं से अलग बनाता है !

मनरेगा के नियम (मुख्य तथ्य) क्या है

  • इस योजना ( MANREGA Scheme ) में पंजीकरण के लिए परिवार एक ही यूनिट मानी जाती हैं !
  • इस अधिनियम के तहत प्रत्येक वित्तीय वर्ष में प्रत्येक परिवार को 100 दिन का रोजगार प्रदान करना है !
  • आवेदन किए जाने पर 15 दिन के अंदर गारंटी रोजगार प्रदान करना है !
  • यदि आवेदक को 15 दिन के अंदर रोजगार नहीं प्राप्त होता है तो सरकार के द्वारा उसे बेरोजगारी भत्ता प्रदान किया जाता है !
  • इस महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना ( Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Scheme ) में आवेदक को अपने क्षेत्र के 5 किलोमीटर में ही रोजगार प्रदान किया जाता है !
  • यदि आवेदक को 5 किलोमीटर से अधिक दूरी पर रोजगार दिया जाता है तो उसको आने जाने के लिए परिवहन मुहैया कराया जाता है !
  • इस मनरेगा योजना में कम से कम एक तिहाई लाभार्थी महिला होनी आवश्यक है !
  • लाभार्थियों को उनकी मजदूरी साप्ताहिक आधार पर प्रदान की जाती है !
  • मजदूरी का भुगतान सरकारी बैंक या फिर डाकघर के द्वारा लाभार्थी के अकाउंट में पहुंचाया जाता है !
  • वर्ष 2021-22 के लिए 73 हजार करोड़ रुपए इस योजना के लिए आवंटित किए गए हैं !

नरेगा जॉब कार्ड क्या है

मनरेगा या नरेगा जॉब कार्ड ( Nrega Job Card ) उन सभी लाभार्थियों को प्रदान किया जाने वाला एक दस्तावेज है ! जिसमें लाभार्थी द्वारा किए गए कार्यों की जानकारी होती है ! लाभार्थी के कार्ड में दी जाने वाली जानकारी जैसे- नाम, पता, माता-पिता का नाम, जॉब कार्ड नंबर ! मनरेगा ( MANREGA ) में काम करने वाले व्यक्ति को 100 दिन का रोजगार देने का अधिकार प्रदान करता है !

Advertising
Advertising

मनरेगा योजना के लिए पात्रता (MANREGA Yojana)

इस योजना का उद्देश्य महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना ( Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Scheme ) के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले परिवार के एक व्यक्ति को 100 दिन की रोजगार गारंटी प्रदान करना है ! इस योजना के लिए आवेदन करने के लिए आवेदक के पास निम्नलिखित योग्यता होना अनिवार्य है-

  1. वह भारत का नागरिक है, ग्रामीण क्षेत्र का निवासी है !
  2. 18 वर्ष से अधिक हो !
  3. आवेदक को इस योजना में स्वेच्छा से कार्य करने के लिए इच्छुक होना चाहिए !
  4. मनरेगा योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं !

मनरेगा जॉब कार्ड के लिए आवेदन कैसे करें

इस मनरेगा योजना ( MANREGA Yojana ) में आवेदन करने के लिए लाभार्थी को अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा ! जिसके लिए आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट (https://nrega.nic.in/) पर जाकर फॉर्म डाउनलोड करना होगा ! फोन डाउनलोड करने के बाद आपको उसका प्रिंट आउट लेना होगा और उसमें पूछी गई सभी जानकारी भरनी होगी !

यह आवेदन आप अपनी ग्राम पंचायत में जाकर कभी भी करवा सकते हैं ! आपके द्वारा दी गई जानकारी की जांच करने के बाद ग्राम पंचायत की जिम्मेदारी है ! कि वह 15 दिनों के भीतर आपका जॉब कार्ड दे ! मनरेगा जॉब कार्ड ( Nrega Job Card ) के लिए प्रखंड कार्यालय में भी आवेदन किया जा सकता है !

यह भी जाने :- Bihar CM Kanya Utthan Yojana Form : जानिए क्या है कन्या उत्थान योजना, कैसे करे इसके लिए रजिस्ट्रेशन

>